ringtoens saathi tera payar puja h dwonlod

Press Report

समाचार स्रोतों की सूची लगातार अद्यतन

Share on Facebook Share on Twitter Share on Google+

Ads

H-1B वीजा पर US का रुख नरम, जल्द शुरू होगी प्रक्रिया, हजारों भारतीयों को मिलेगी राहत

१९ सितंबर २०१७ १०:३४:१० Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

अमेरिका ने एकबार फिर H-1B वर्क वीजा निलंबन को खत्म कर उसे फिर से शुरू करने को हरी झंडी दे दी है।

Vice null Time१९ सितंबर २०१७ १०:३४:१०


Ads

H-1B वीजा की प्रीमियम प्रोसेसिंग सर्विस बहाल

१९ सितंबर २०१७ ०९:५३:५९ Navbharat Times

अमेरिका में काम करनेवाले भारतीय प्रफेशनलों के बीच खासा लोकप्रिय H-1B वीजा की प्रीमियम प्रोसेसिंग सर्विस दुबारा शुरू हो गई है। अमेरिकी नागरिकता और आव्रजन सेवा ने पांच महीने पहले इस पर तत्काल रोक लगा दी थी। इस सर्विस के तहत एजेंसी 15 दिनों के अंदर वीजा आवेदन निपटाने की गारंटी देती है।

Vice सभी समाचार Time१९ सितंबर २०१७ ०९:५३:५९


First Look Music Launch Of Film Kaun Mera Kaun Tera With Govinda

१५ सितंबर २०१७ ०९:०९:३६ Hastakshep

यदि उपरोक्त लिंक काम न कर रहा हो तो पूरा आलेख पढ़ने के लिए लॉगिन करें। http://www.hastakshep.com

Vice सभी समाचार Time१५ सितंबर २०१७ ०९:०९:३६


पिछले एक दशक में 21 लाख से ज्यादा भारतीयों ने H-1B वीजा के लिए आवेदन किया!

०१ अगस्त २०१७ १०:१२:५२ Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

आधिकारिक रिपोर्टस के मुताबिक पिछले 11 सालों में 21 लाख से ज्यादा भारतीय टेक्नालॉजी प्रोफेशनल्स ने H-1B वीजा के लिए आवेदन किया।

Vice null Time०१ अगस्त २०१७ १०:१२:५२


प्रोफेशनल्स के लिए नहीं घटेंगे H-1B वीजा, सीतारमण ने इंडस्ट्री को दिलाया भरोसा

२० मई २०१७ १५:०६:११ bhaskar

नई दिल्ली. कॉमर्स मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने शनिवार को वीजा विवाद को शांत करने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स के लिए एच1बी वीजा की संख्या में कोई कमी नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि इंडस्ट्री को ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। कम नहीं होने वाली H-1B वीजा की संख्या सीतारमण ने रिपोर्टर्स से बातचीत में कहा, ‘वीजा के मामले में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। मुझे लगता है कि वे (अमेरिका) लॉटरी प्रॉसेस में सुधार करना चाहते हैं। संख्या बदलने नहीं जा रही है। वीजा में कोई कमी नहीं आएगी।’ बीते कुछ हफ्तों में अमेरिका सहित डेवलप्ड इकोनॉमीज में प्रोटेक्शनिज्म का सेंटीमेंट तेजी से बढ़ रहा है, जिसके लोकल्स को जॉब के लिए सेफगार्ड दिया जा रहा है और फॉरेन वर्कर्स के लिए बंदिशें लगाई जा रही हैं। भारतीय कंपनियों को मिलते हैं 17 फीसदी H-1B वीजा अमेरिका में ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ज्यादा मेरिट आधारित इमिग्रेशन पॉलिसी के साथ मौजूदा लॉटरी सिस्टम को रिप्लेस करना चाहता है। सीतारमण ने कहा कि कुल अमेरिकी वीजा का महज 17 फीसदी...

Vice व्यवसाय Time२० मई २०१७ १५:०६:११


भारतीय कंपनियों के इन्वेस्टमेंट की कद्र करते हैं: H-1B वीजा मुद्दे पर US

२५ अप्रैल २०१७ ०८:४९:३९ bhaskar

इंटरनेशनल डेस्क. अमेरिका ने H-1B मुद्दे पर कहा है कि हम भारतीय कंपनियों के इन्वेस्टमेंट की कद्र करते हैं। साथ ही अमेरिका और भारत के बीच मजबूत इकोनॉमिक रिलेशन चाहते हैं। कुछ दिन पहले अरुण जेटली ने H-1B वीजा पर अपने अमेरिकी काउंटरपार्ट स्टीवन नूचिन के साथ बात की थी। बिजनेस के क्षेत्र में दोनों देशों के रिलेशन मजबूत हों... - विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन मार्क टोनर ने कहा, "हम चाहते हैं कि भारत-अमेरिका के बीच बिजनेस के क्षेत्र में रिलेशन और मजबूत हों।" - टोनर से H-1B वीजा के रिव्यू और उससे भारतीय कंपनियों पर पड़ने वाले असर को लेकर सवाल पूछा गया था। - टोनर ने कहा, "यूएस इकोनॉमी में इन्वेस्टमेंट करने के लिए हम भारतीय कंपनियों के शुक्रगुजार हैं। उनके चलते हमारे यहां हजारों लोगों को जॉब मिला हुआ है।" - "अगर वीजा को लेकर कोई और जरूरत होगी तो उसे जल्द अपडेट किया जाएगा। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन वीजा प्रोसेस को मजबूत करने की ही कोशिशों में जुटा है।" &वीजा प्रोसेस को रिव्यू किया जाता है& - टोनर ने कहा, "ये ध्यान रखना जरूरी है कि हमारा काउंसलर...

Vice null Time२५ अप्रैल २०१७ ०८:४९:३९


भारतीय कंपनियों के इन्वेस्टमेंट की कद्र करते हैं: H-1B वीजा मुद्दे पर US

२५ अप्रैल २०१७ ०८:३८:२७ bhaskar

नई दिल्ली. अमेरिका ने H-1B मुद्दे पर कहा है कि हम भारतीय कंपनियों के इन्वेस्टमेंट की कद्र करते हैं। साथ ही अमेरिका और भारत के बीच मजबूत इकोनॉमिक रिलेशन चाहते हैं। कुछ दिन पहले अरुण जेटली ने H-1B वीजा पर अपने अमेरिकी काउंटरपार्ट स्टीवन नूचिन के साथ बात की थी। बिजनेस के क्षेत्र में दोनों देशों के रिलेशन मजबूत हों... - विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन मार्क टोनर ने कहा, "हम चाहते हैं कि भारत-अमेरिका के बीच बिजनेस के क्षेत्र में रिलेशन और मजबूत हों।" - टोनर से H-1B वीजा के रिव्यू और उससे भारतीय कंपनियों पर पड़ने वाले असर को लेकर सवाल पूछा गया था। - टोनर ने कहा, "यूएस इकोनॉमी में इन्वेस्टमेंट करने के लिए हम भारतीय कंपनियों के शुक्रगुजार हैं। उनके चलते हमारे यहां हजारों लोगों को जॉब मिला हुआ है।" - "अगर वीजा को लेकर कोई और जरूरत होगी तो उसे जल्द अपडेट किया जाएगा। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन वीजा प्रोसेस को मजबूत करने की ही कोशिशों में जुटा है।" &वीजा प्रोसेस को रिव्यू किया जाता है& - टोनर ने कहा, "ये ध्यान रखना जरूरी है कि हमारा काउंसलर ब्यूरो और...

Vice null Time२५ अप्रैल २०१७ ०८:३८:२७


अमेरिका ने TCS, इन्फोसिस पर H-1B वीजा के नॉर्म्स तोड़ने का आरोप लगाया

२३ अप्रैल २०१७ २०:३६:५१ bhaskar

नई दिल्ली/वॉशिंगटन. अमेरिका ने टॉप भारतीय आईटी कंपनियों टीसीएस और इन्फोसिस पर H-1B वीजा के नॉर्म्स के वॉयलेशन (उल्लंघन) का आरोप लगाया है। कहा गया है कि ये दोनों कंपनियां गलत तरीकों से जरूरत से बहुत ज्यादा H-1B वीजा हासिल करती हैं। बता दें कि यूएस में लॉटरी सिस्टम से ये वीजा दिया जाता है। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन अब इसकी जगह मेरिट बेस्ड इमिग्रेशन पॉलिसी लाना चाहता है। एक्स्ट्रा टिकटों के जरिए हथिया लेती हैं ज्यादा वीजा... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के एक ऑफिशियल ने पिछले हफ्ते व्हाइट हाउस पर प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा, "आउटसोर्सिंग करने वाली कुछ कंपनियों के ढेर सारे एप्लिकेशंस आते हैं जिससे स्वाभाविक तौर पर लॉटरी सिस्टम में उनकी सफलता के मौके बढ़ जाते हैं। आप उन कंपनियों के नाम अच्छी तरह जानते हैं। सबसे ज्यादा H-1B वीजा पाने वालों में टाटा, इन्फोसिस, कॉग्नीजेंट जैसी कंपनियां शामिल हैं, ये बड़ी संख्या में वीजा के लिए एप्लिकेशन देती हैं, वे लॉटरी सिस्टम में एक्स्ट्रा टिकटों के जरिए H-1B वीजा का बड़ा हिस्सा हथिया लेती हैं।" - इस...

Vice null Time२३ अप्रैल २०१७ २०:३६:५१


अमेरिका में कम्प्यूटर प्रोग्रामर्स को नहीं मिलेगा H-1B वीजा, सख्त हुए नियम

०४ अप्रैल २०१७ १४:१६:१४ bhaskar

वॉशिंगटन. डोनाल्ड ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन से साफ किया है कि एच-1बी वीजा फ्रॉड और गलत इस्तेमाल से निपटने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे। हाल ही में जारी पॉलि‍सी मेमोरेंडम में कहा गया है कि कम्प्‍यूटर प्रोग्रामर्स H-1B वीजा के लिए एलिजिबल नहीं होंगे। यूएससीआईएस ने 31 मार्च को ‘रिसेशन ऑफ द दि‍संबर 22, 2000, गाइडलाइन मेमो ऑन H-1B कम्प्‍यूटर रिलेटेड पोजि‍शन’ नाम से पॉलि‍सी मेमोरेंडम जारी कि‍या था। बता दें कि भारतीय आईटी कंपनियां आईटी प्रोफेशनल्स को अमेरिका भेजने में इस वीजा का जमकर इस्तेमाल करती हैं। वीजा देने की प्रॉसेस शुरू होते ही अमेरिका ने किया एलान... - न्यूज एजेंसी की खबर के मुताबिक, एच-1बी वीजा देने में सख्ती बरतने का एलान यूएस सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विस (USCIS) ने किया। - ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन का ये एलान उस वक्त सामने आया है, जब एच-1बी वीजा देने के लिए एप्लिकेशन एक्सेप्ट की जा रही हैं। 1 अक्टूबर, 2017 से अमेरिकी फिस्कल ईयर की शुरुआत होती है। - USCIS ने कहा, "हमारा मकसद एच-1बी वीजा के गलत इस्तेमाल को रोकना है। इससे अमेरिकी कंपनियों को हाइली...

Vice null Time०४ अप्रैल २०१७ १४:१६:१४


H-1B: US में विदेशियों को जॉब पर चेतावनी

०४ अप्रैल २०१७ १२:२५:०८ Navbharat Times

ट्रंप प्रशासन ने कंपनियों को कड़ी चेतावनी दी है कि वो H-1B वीजा प्रोग्राम का दुरुपयोग कर अमेरिकियों से भेदभाव नहीं करें। भारतीय आईटी कंपनियां और प्रफेशनल्स में H-1B वीजा की बड़ी मांग होती है।

Vice सभी समाचार Time०४ अप्रैल २०१७ १२:२५:०८