मां-बाप की फटकार के बाद एक साथ भागे 6 बच्चे

Press Report

समाचार स्रोतों की सूची लगातार अद्यतन

Share on Facebook Share on Twitter Share on Google+

Ads

१३ फ़रवरी २०१८ १३:३६:५५ Jagran Hindi News - west-bengal:kolkata

इन सबकी उम्र 9 से 13 वर्ष के बीच हैं। इनमें से राजदीप तो घर लौट आया है लेकिन बाकी के बच्चे रविवार शाम से लापता हैं। पर पूर्ण लेख मां-बाप की फटकार के बाद एक साथ भागे 6 बच्चे

Vice सभी समाचार Time१३ फ़रवरी २०१८ १३:३६:५५


Ads

गड्ढे में मिली 8 साल की बच्ची की लाश, ताला लगाकर भागे मां-बाप

2.1439648 २८ सितंबर २०१७ ०९:३२:४० Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

फिरोजाबाद में आठ साल की बच्ची की गड्ढे में लाश मिलने से सनसनी फैल गई। बच्ची की की गोली मारकर हत्या के बाद शव को इस गड्ढे में दफना दिया गया। उधर पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

Vice null Time२८ सितंबर २०१७ ०९:३२:४०


पिंडवाड़ा के 3 बच्चों को मां-बाप ने दलाल को बेचा, मारपीट से तंग अाकर चंगुल से भागे

2.058291 ०९ नवंबर २०१६ ०२:४८:१४ bhaskar

भास्कर न्यूज | बांसवाड़ा/पिंडवाड़ा पढ़नेकी ललक रखने वाले तीन बच्चों को अपने मां-पिता ने भेड़ें चराने के लिए दलाल के हाथों लीज पर एक साल के लिए बेच दिया। दलाल इन बच्चों से रतलाम में भेड़ें चरवाता और दूसरे काम भी कराता था। खाना नहीं देता था और मारपीट करता था। तंग आकर ये बच्चे 21 दिन में ही सोमवार रात को दलाल के चंगुल से भाग निकले। जिस बस से उदयपुर-सिरोही जा रहे थे, उस बस के कंडक्टर ने टिकट की राशि नहीं मिलने की वजह से बांसवाड़ा में बड़लिया टोल प्लाजा पर मंगलवार अलसुबह 4 बजे उतार दिया। ठंड में ये बच्चे टोल नाके पर दुबक कर बैठे। इस बीच उन पर प्लाजा के कर्मचारियों की नजरें पड़ी। आखिर सदर थाने में बच्चों को पहुंचाया गया और फिलहाल ये बच्चे बाल कल्याण समिति की देखरेख में हैं। पिछले दिनों सिरोही के पिंडवाड़ा की बेरस ग्राम पंचायत के गांव मालड़ा और मालन गांव के तीन बच्चों को परिजनों ने किसी दलाल के हाथों लीज पर बेच दिया था। ये दलाल जो भेड़ चराने का काम करते हैं। इन बच्चों को लेकर दलाल रतलाम चला आया। जहां भेड़ों की रेवड़ में शामिल कर लिया गया और बच्चे भी भेड़ चराने लग...

Vice null Time०९ नवंबर २०१६ ०२:४८:१४


माथा टेक मां-बाप निकले आगे, 6 साल का बच्चा लापता

2.058291 १३ फ़रवरी २०१६ २१:३९:४२ bhaskar

मां-बाप माथा टेकते हुए आगे निकल चुके थे, लेकिन बड़ी बेटी की नजर अपने छोटे भाई पर पड़ी। वह अपने छोटे भाई के पास गई और हाथ पकड़ अपने पास लाई, लेकिन कुछ ही देर बाद बच्चा कहीं चला गया। यही हुआ कुछ दिन पहले माता मनसा देवी मंदिर में माथा टेकने आए एक परिवार के साथ। उनके 6 साल के बच्चे का कुछ पता नहीं चल रहा है। यह बच्चा 6 दिन से लापता है। पुलिस ने भी बच्चे की तलाश में मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगालना शुरू कर दिया है। बच्चे को मंदिर में लगे हर एक कैमरे में देखा जा रहा है। इसके लिए एमडीसी थाना पुलिस हर एंगल से जांच कर रही है। 7 फरवरी को लापता हुआ बच्चा दरअसल,डेराबस्सी स्थित वीआईपी सोसायटीज में रहने वाले भुरे कुमार अपने परिवार के साथ 7 फरवरी को श्री माता मनसा देवी मंदिर में माथा टेकने आए थे। जैसे ही वह पटियाला मंदिर से लौटने लगे तो उनका छह साल का बच्चा नन्हें उनके साथ नहीं था। उन्होंने अपने लेवल पर उसे ढूंढने का भी प्रयास किया, लेकिन कुछ पता नहीं चला। इसके बाद पुलिस को शिकायत दी गई। एमडीसी सेक्टर 5 पुलिस थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर भरतू राम ने बताया कि मामला...

Vice null Time१३ फ़रवरी २०१६ २१:३९:४२


बच्चे को उसके मां-बाप से मिलवाया

2.0181298 २१ जनवरी २०१६ २२:३९:२२ bhaskar

छात्र आत्महत्या मामले में जलाया पुतला सोनीपत |बाल विकाससमिति द्वारा गुरुवार को एक बच्चे को उसके माता-पिता के हवाले किया गया। प्रोटेक्शन ऑफिसर आरती ने बताया कि 24 सितंबर 2015 को सिक्का कॉलोनी चौकी ने आठ साल के बच्चे यशपाल को सीडब्ल्यूसी के सामने पेश किया था। बच्चे को किशोर विकास सदन भेज दिया गया, लेकिन उम्र कम होने के कारण उसे 14 अक्टूबर 2015 को सपना कुंज भेज दिया। इसके बाद पुलिस द्वारा सभी थानों में बच्चों की डिटेल भेज दी गई। राई एसआई रामफल ने बच्चे के माता पिता को ढूंढने में सफलता पाई।आरती ने बताया कि बच्चे के पिता साहिब लाल जो मूल रूप से उत्तर प्रदेश के उन्नाव का रहने वाला है। अब कुंडली में नौकरी करता है। यहीं से यशपाल गुम हो गया था। जिसे गुरुवार को सीडब्ल्यूसी के सामने उसके पिता को राई एसआई रामफल की मौजूदगी में सौंप दिया गया।

Vice null Time२१ जनवरी २०१६ २२:३९:२२


मां-बाप टीचर कर सकते हैं बच्चे का मार्गदर्शन

1.8303062 १५ दिसंबर २०१५ २१:३६:१४ bhaskar

मां-बापऔरटीचर्स की बच्चों का सही मायने में पूरा मार्गदर्शन कर सकते हैं। उनके आदर्शों को अपनाने में बच्चे देर नहीं लगते हैं। अगर वे बच्चों के सामने अपने आप को रोल मॉडल के रूप में प्रस्तुत करें तो कोई ऐसा कारण नहीं कि वे संस्कारवान बनें और लक्ष्य तय कर कड़ी मेहनत से उसे हासिल करने को कोशिश करें। यह बात टाउन हॉल में हुए गुरुकुल सीनियर सेकंडरी स्कूल के वार्षिक समारोह में आपदा प्रबंधन के वाइस चेयरमैन राजेंद्र राणा ने कही। वहीं स्कूल प्रिंसिपल रविंद्र पुरी ने कार्यक्रम में वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी। कार्यक्रम में स्टूडेंट्स की कई तरह की प्रस्तुतियों ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। राजस्थानी, पंजाबी और रंगारंग प्रस्तुतियों ने दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। देशभक्ति की प्रस्तुति जय हो राष्ट्र भाव जगा दिया। इसके अलावा मंच पर दिखाई गई मॉडलिंग प्रतिभा ने जमकर तालियां बटोरीं। इस मौके पर भावना, रितिका, साक्षी, अंबिका, दीपिका, श्रुति, कृतिका पुरी, शिवानी, रतन, सौरव, ऊर्पशी, सुष्मिता, सिया, रूचि, अर्चना, मीनाक्षी, अकांक्षा, आस्था, प्रियंका, नेहा, अंकित, मोहित,...

Vice null Time१५ दिसंबर २०१५ २१:३६:१४


मां-बाप इजाजत नहीं देते थे, इसलिए भाग कर अमृतसर घूमने आए 3 बच्चे

1.7473009 १७ अक्‍तूबर २०१५ २२:३६:२३ bhaskar

अमृतसर | घूमनेके इरादे से घर से भाग आए 14-14 साल के तीन बच्चों आयु, आदर्श और विपुल पर आरपीएफ की नजर पड़ गई। आरपीएफ अफसर कोे शक हुआ तो तीनों को थाने लाकर पूछताछ की। इसके बाद तीनों ही अलग-अलग तरह की कहानियां बनाने लग पड़े। जब आरपीएफ वालों ने सख्ती की तो तीनों ही सब-कुछ सच-सच बोलने लग पड़े। आरपीएफ के अधिकारी अरुण कुमार ने बताया कि दोपहर को हावड़ा गाडी़ स्टेशन पर पहुंची तो तीनों बच्चों उसी में आए। यहां आकर गोल्डन टेंपल घूमने चले गए। सारी जगह घूम कर बच्चे वापस स्टेशन पर आए और इधर-उधर घूमने लग पड़े। उनके एक आफिसर को बच्चों पर शक हुआ तो तीनों को थाने लाया गया।

Vice null Time१७ अक्‍तूबर २०१५ २२:३६:२३


मां-बाप की शादी में बच्चे बराती

1.6466328 ०६ सितंबर २०१५ ०९:३०:४९ Jagran Hindi News - entertainment:bollywood

समय बदला, दौर बदला पर बदली नहीं तो एक परंपरा। सुनने में यह परंपरा भले ही अनोखी लगे पर इसका निर्वहन आज भी हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिला के आउटर सराज आनी में धूमधाम से होता है।

Vice सभी समाचार Time०६ सितंबर २०१५ ०९:३०:४९


बिछुड़े बच्चे को मां-बाप से मिलवाया

1.6466328 २४ जून २०१५ २२:५७:३२ bhaskar

अम्बाला सिटी | जिलायुवा विकास संगठन द्वारा संचालित चाइल्ड लाइन ने बच्चे प्रवीन को चाइल्ड लाइन ने बाल कल्याण समीति की उपस्थिति में इस बच्चे को उसके माता-पिता को सौंपा। यह बच्चा जालधंर से अपने माता-पिता से बिछुड़ कर अम्बाला पहुंच गया था और ये बच्चा चाइल्ड लाइन अम्बाला को मिल गया था। इस बच्चे को उसके माता-पिता से मिलाने के लिए चाइल्डलाइन ने पूरी मेहनत और कार्य कर इस बच्चे को उसके माता-पिता तक पहुंचाया।

Vice null Time२४ जून २०१५ २२:५७:३२


जब 9 बच्चे की मां को 6 बच्चों के बाप से हुआ प्यार तो दोनों घर से हुए फरार

1.6466328 ०२ जून २०१५ १३:२१:५२ bhaskar

अमरोहा/मेरठ. कहते हैं प्यार अंधा होता है। दुनियादारी उसकी समझ में नहीं आती। प्यार की भाषा को जो बयां कर सके, आज तक ऐसी कोई परिभाषा नहीं बनी। प्यार ना उम्र देखता है और ना जात-पात। इसके अहसास में डूबे लोग अपनी एक अलग ही दुनिया बसा लेते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ है अमरोहा में, जहां नौ बच्चों की मां को छह बच्चों के पिता से मोहब्बत हो गई। दोनों प्यार में इस कदर खो गए कि उन्हें याद ही नहीं रहा कि कुछ जिंदगियां हैं, जो सिर्फ उनके सहारे हैं। रविवार देर रात ये प्रेमी जोड़ा बच्चों को छोड़कर अपनी एक अलग दुनिया बसाने चला गया। मासूम बच्चे इंतजार कर रहे हैं कि कब उनकी मां आकर उन्हें प्यार से गले लगाएगी, तो वहीं दूसरी तरफ बच्चे पिता का सुकून भरा हाथ थामने के लिए तड़प रहे हैं। यह प्रेम कहानी कोतवाली हसनपुर के सिरसा गुर्जर गांव की है। नौ बच्चों की मां का दिल पड़ोस में रहने वाले छह बच्चों के पिता पर आ गया। इजहार-ए-इश्क होने में थोड़ा वक्त लगा, क्योंकि दोनों जानते थे कि समाज की नजरों में यह पाप के सिवा और कुछ नहीं है। कहते हैं मोहब्बत का नशा पुरानी शराब की तरह होता है, जिसका...

Vice null Time०२ जून २०१५ १३:२१:५२


बच्चे को मिला मां-बाप का प्यार

1.6015179 २३ मई २०१५ २३:१४:२४ bhaskar

करनाल। मां-बापसे बिछुड़े बच्चे को फिर से मां-बाप का प्यार मिल गया है। बच्चे और मां-बाप ने एक दूसरे को पहचान लिया है। समिति ने तमाम कागजी कार्रवाई के बाद बच्चे को उसके माता-पिता को सौंप दिया है। बाल कल्याण समिति करनाल द्वारा एक मंदबुद्धि लड़का, जिसका नाम अनुज आयु 8 वर्ष है। वह एमडीडी बाल-भवन (अनाथाश्रम) में 16 मई को लापता हालत में सौंपा गया था। उसे 20 मई को उनके माता-पिता जोकि भगवानगढ़, यमुनानगर से आए हुए थे। उन्होंने उस बच्चे को पहचान लिया बच्चे ने भी अपने माता-पिता को पहचान लिया है। संचालक एमडीडी बाल भवन बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष सुरेन्द्र मान द्वारा सारी कागजी कार्रवाई पूरी करके उन्हें सौंप दिया गया।

Vice null Time२३ मई २०१५ २३:१४:२४