महिलाओं में बढ़ रही वोट पर चोट की ललक, थर्ड जेंडर मतदाताओं की संख्या 2366

Press Report

समाचार स्रोतों की सूची लगातार अद्यतन

Share on Facebook Share on Twitter Share on Google+

Ads

१३ जनवरी २०१८ १७:५९:१७ Jagran Hindi News - bihar:patna-city

नई मतदाता सूची में अभी भी प्रति हजार पुरुषों की तुलना में महज 887 महिलाएं ही मतदाता बन पाईं हैं। लेकिन सुखद यह है कि वर्ष दर वर्ष मतदाता बनने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ रही है। पर पूर्ण लेख महिलाओं में बढ़ रही वोट पर चोट की ललक, थर्ड जेंडर मतदाताओं की संख्या 2366

Vice सभी समाचार Time१३ जनवरी २०१८ १७:५९:१७


Ads

हिमाचल विधानसभा चुनाव में पहली बार वोट डाल रहे थर्ड जेंडर

0.7512571 ०९ नवंबर २०१७ ०७:४५:५३ Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रदेश भर के 20 विधानसभा क्षेत्रों में दो दर्जन से अधिक थर्ड जेंडर मतदाता अपने मत का प्रयोग कर रहे हैं।

Vice null Time०९ नवंबर २०१७ ०७:४५:५३


निकाय चुनाव में बढ़ी युवा मतदाताओं की संख्या

0.7483942 २५ अक्‍तूबर २०१७ ०६:५५:३४ Jagran Hindi News - uttar-pradesh:lucknow-city

सूबे की 653 नगरीय निकायों (16 नगर निगम, 199 नगर पालिका परिषद व 438 नगर पंचायत) में पिछले चुनाव से अबकी तकरीबन 25.97 लाख मतदाता बढ़े हैं।

Vice सभी समाचार Time२५ अक्‍तूबर २०१७ ०६:५५:३४


थर्ड जेंडर के लिए चल रही योजनाओं की समीक्षा 1 को

0.7138135 २६ फ़रवरी २०१७ २३:१५:३८ bhaskar

राजनांदगांव| थर्ड जेंडर के लिए चल रही विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा 1 मार्च को होगी। समीक्षा बैठक कलेक्टोरेट सभाकक्ष में रखी गई है। जिसमें गठित समिति के सदस्य थर्ड जेंडरों की समस्या,मांगों व योजनाओं की जानकारी लेंगे।

Vice null Time२६ फ़रवरी २०१७ २३:१५:३८


2015 में बेटियों की संख्या बढ़ी सुधरा जिले का जेंडर रेशियो

0.6260476 ३१ दिसंबर २०१५ २२:३०:४७ bhaskar

हेल्थ रिपोर्टर|दुर्ग . 2105 में जिले में बड़ी संख्या में बेटियों का जन्म हुआ। चाहे सरकारी अस्पताल हो या गैर सरकारी अस्पताल, सभी जगह बेटों की तुलना में बेटियों ने ज्यादा जन्म लिया। बताया जा रहा है कि प्रतिदिन औसत दस में से सात बेटियों ने जन्म लिया है। अगर 2016 में भी जिले में इसी तरह बेटियों का स्वागत हुआ तो यह आंकड़ा छत्तीसगढ़ को देश के सर्वश्रेष्ठ शिशु लैंगिक अनुपात वाला राज्य बना देगा। जिला स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 2015 में जिले में 31932 शिशुओं ने जन्म लिया है। जिनमें से 16446 बेटियां और 15466 बेटे रहे हैं। जबकि 2014 में हुई 29502 डिलवरी में 15009 बेटों और 14493 बेटियों ने जन्म लिया था। 2014 की तुलना में 2015 में ज्यादा बेटियों ने जन्म लिया है। 2014 में बेटों का ज्यादा जन्म हुआ था। 2015 में बेटों की तुलना में ज्यादा बेटियों ने जन्म लिया है। जो दर्शाता है कि 2015 में जिले में बेटियों की संख्या बढ़ी, जिससे लिंग अनुपात भी बेहतर हुआ।। दिसंबर में 64 प्रतिशत बेटियों की सौगात : दिसंबर में जिला अस्पताल में 396 शिशुओं का जन्म हुआ। जिनमें से 251 बेटियां और 145 बेटे हैं। यानी कुल जन्म बच्चों में 64 प्रतिशत बेटियों और...

Vice null Time३१ दिसंबर २०१५ २२:३०:४७


थर्ड जेंडर को मतदान करने किया प्रोत्साहित

0.6260476 १५ दिसंबर २०१५ २२:१७:०५ bhaskar

तृतीय लिंग को मतदान प्रक्रिया से जोड़ने के लिए आदर्श बालक उच्चत्तर माध्यमिक शाला में कार्यक्रम आयोजित किया गया। नगर के सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारी व वरिष्ठ नागरिकों व किन्नरों को आमंत्रित कर उन्हें तिलक व बैच लगाकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी उमेश कुमार अग्रवाल व उप जिला निर्वाचन अधिकारी ओंकार यदु शामिल रहे। वरिष्ठ नागरिकों में मुख्य रूप से सरदार देवेंद्र सिंग सत्ते, नारायण लाल चन्द्राकर, केआर चंद्राकर, कंवल सिंह साहू, अंतराम यादव, कालेज के एनएसएस विद्यार्थी, आईटीआई के विद्यार्थी उपस्थित थे। इस अवसर पर शासकीय महाप्रभु वल्लभाचार्य स्नात्कोत्तर महाविद्यालय महासमुंद एवं आईटीआई के विद्यार्थियों की आेर से नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत कर मतदान में सहभागी बनने को कहा गया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक ईश्वर चंद्राकर ने किया। महासमुंद. नुक्कड़ नाटक के माध्यम से मतदान करने की अपील की गई।

Vice null Time१५ दिसंबर २०१५ २२:१७:०५


वोट देने में महिलाओं की संख्या कम नहीं

0.6260476 २३ नवंबर २०१५ २३:०८:३४ bhaskar

रांची |रांची केपांच प्रखंडों में वोटिंग परसेंटेज के अनुसार महिलाओं की संख्या पुरुषों से कम नहीं है। महिलाएं भी काफी संख्या में घर से निकलकर मतदान की है। जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी गीता चौबे के अनुसार महिला और पुरुषों का वोटिंग परसेंटेज गया है। इसके अनुसार लापुंग में 15 हजार 33 पुरुष और 14 हजार 331 महिला, बेड़ो में 26 हजार 911 पुरुष और 24 हजार 234 महिला, कांके में 50 हजार 281 पुरुष और 43 हजार 355 महिला, नगड़ी में 20 हजार 85 पुरुष और 18 हजार 820 महिला और इटकी में 12 हजार 773 पुरुष और 11 हजार 797 महिलाओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग की है। आंकड़ों पर गौर करें तो वह वोटिंग में पुरुषों से काफी नजदीक है। यह लोकतंत्र के लिए अच्छा संकेत हैं।

Vice null Time२३ नवंबर २०१५ २३:०८:३४


ठियोग नगर में घट रही मतदाताओं की संख्या

0.6062874 २० नवंबर २०१५ २१:३७:१० bhaskar

अपरशिमला के द्वार पर बसी ठियोग नगर परिषद में लगातार विकास हो रहा है और यहां पर पिछले कुछ सालों में अंधाधुंध भवन निर्माण हुआ है। यह नगर बासा ठियोग से लेकर देवरीघाट पंचायत की सीमा तक फैल गया है। भवनों की संख्या भी पिछले दस सालों में दोगुनी से अधिक हो गई है।लेकिन रोचक बात यह है कि यहां पर नप चुनावों में भाग लेने वाले वोटरों की संख्या लगातार घट रही है। इसका आसपास की पंचायतों के वोटरों का नाम नप में भी दर्ज होना था जिसे नई बनी सूचियों में हटा दिया गया है। इस बार होने वाले ठियोग नप चुनावों में वोटरों की संख्या पिछले चुनावों के मुकाबले 3184 से घटकर मात्र 1831 रह गई है इनमें कुछ नए वोटरों के जुड़ने के बाद वोटरों की संख्या दो हजार से ऊपर नहीं जाने वाली है। पिछले विस चुनावों में जहां ठियोग नप में 1947 वोटर थे, वहीं लोकसभा चुनावों में घटकर 1935 रह गए थे। इस बार यह संख्या और कम हुई है। ठियोग नप का सबसे बड़ा प्रतिष्ठित वार्ड सात नंबर है जहां इस बार 453 वोटर हैं। इसके बाद वार्ड नंबर चार में 341,वार्ड नंबर दो में 302,वार्ड नंबर तीन में 295,वार्ड नंबर एक में 275,वार्ड नंबर छ: में 134 और वार्ड नंबर पांच...

Vice null Time२० नवंबर २०१५ २१:३७:१०


200 थर्ड जेंडर अपनी इच्छा के अनुसार महिला बनेंगे या पुरुष

0.59902084 २९ सितंबर २०१५ ०१:०९:१२ bhaskar

रायपुर। राज्य की थर्ड जेंडर सोसायटी के लिए जिंदगी के नए सफर पर बढ़ने के दिन आ गए। करीब 200 थर्ड जेंडर अपनी मर्जी से महिला या पुरुष बन सकेंगे। मंगलवार से दो दिन तक राजधानी में एक्सपर्ट डाक्टर उनके अंग प्रत्यारोपण से पहले काउंसिलिंग करेंगे। एक आपरेशन पर पांच लाख खर्च होंगे जो राज्य सरकार देगी। बाद में 2500 और थर्ड जेंडर की सर्जरी की जाएगी। दैनिक भास्कर ने पिछले साल सितंबर में बताया था कि थर्ड जेंडर अब अपनी इच्छा के अनुसार कोई भी लिंग धारण कर सकेंगे। अब वह दिन आ गया जब वे डॉक्टर को बताएंगे कि वे पुरुष बनना चाहते हैं या महिला। समाज कल्याण विभाग द्वारा तृतीय लिंग समुदाय के व्यक्तियों के लिंग रिएसाइनमेन्ट सर्जरी विषय पर 29 और 30 सितम्बर को यहां न्यू सर्किट हाउस में दो दिवसीय कार्यशाला रखी है। हेल्थ डिपार्टमेंट इसका आयोजक है। कार्यशाला में देश के कई सब्जेक्ट एक्सपर्ट और नामी सर्जन, मनोवैज्ञानिक, थर्ड जेंडर, विभागीय अधिकारी शामिल होंगे। इनमें चेन्नई के सेंटर फॉर हेल्थ रिसर्च सेंटर के प्रबंध संचालक डॉ. वेंकटेशन चक्रपाणी, किलालाप मेडिकल कॉलेज चेन्नई...

Vice null Time२९ सितंबर २०१५ ०१:०९:१२


200 थर्ड जेंडर अपनी इच्छा के अनुसार महिला बनेंगे या पुरुष

0.59744984 २८ सितंबर २०१५ २३:२५:३३ bhaskar

राज्य की थर्ड जेंडर सोसायटी के लिए जिंदगी के नए सफर पर बढ़ने के दिन आ गए। करीब 200 थर्ड जेंडर अपनी मर्जी से महिला या पुरुष बन सकेंगे। मंगलवार से दो दिन तक राजधानी में एक्सपर्ट डाक्टर उनके अंग प्रत्यारोपण से पहले काउंसिलिंग करेंगे। एक आपरेशन पर पांच लाख खर्च होंगे जो राज्य सरकार देगी। बाद में 2500 और थर्ड जेंडर की सर्जरी की जाएगी। दैनिक भास्कर ने पिछले साल सितंबर में बताया था कि थर्ड जेंडर अब अपनी इच्छा के अनुसार कोई भी लिंग धारण कर सकेंगे। अब वह दिन आ गया जब वे डॉक्टर को बताएंगे कि वे पुरुष बनना चाहते हैं या महिला। समाज कल्याण विभाग द्वारा तृतीय लिंग समुदाय के व्यक्तियों के लिंग रिएसाइनमेन्ट सर्जरी विषय पर 29 और 30 सितम्बर को यहां न्यू सर्किट हाउस में दो दिवसीय कार्यशाला रखी है। हेल्थ डिपार्टमेंट इसका आयोजक है। कार्यशाला में देश के कई सब्जेक्ट एक्सपर्ट और नामी सर्जन, मनोवैज्ञानिक, थर्ड जेंडर, विभागीय अधिकारी शामिल होंगे। इनमें चेन्नई के सेंटर फॉर हेल्थ रिसर्च सेंटर के प्रबंध संचालक डॉ. वेंकटेशन चक्रपाणी, किलालाप मेडिकल कॉलेज चेन्नई के डॉ. जयरमन...

Vice null Time२८ सितंबर २०१५ २३:२५:३३


थर्ड जेंडर अब बन सकेंगे महिला या पुरुष

0.59744984 २० अप्रैल २०१५ २३:१७:४२ Jagran Hindi News - chhattisgarh:raipur

किन्नरों के लिए यह अच्छी खबर है कि वे भी सामान्य महिला व पुरुषों की तरह जीवन बिता सकेंगे। थर्ड जेंडर यानी किन्नरों को ऑपरेशन से उनकी इच्छा के मुताबिक महिला या पुरुष बनाने की तैयारी चल रही है।

Vice सभी समाचार Time२० अप्रैल २०१५ २३:१७:४२