ऊना में मलबे में दब गया तीन साल का मासूम

Press Report

समाचार स्रोतों की सूची लगातार अद्यतन

Share on Facebook Share on Twitter Share on Google+

Ads

१३ जनवरी २०१८ १२:२५:४० Jagran Hindi News - himachal-pradesh:una

जिला ऊना के हरोली के पास घालुवाल में स्‍वां नदी से मिट़टी लाने को गए एक प्रवासी परिवार पर आज दोपहर बाद खुदाई के समय मिटटी का ल्‍हासा गिर गया। पर पूर्ण लेख ऊना में मलबे में दब गया तीन साल का मासूम

Vice सभी समाचार Time१३ जनवरी २०१८ १२:२५:४०


Ads

बिहार में हाई-वे पर धंसा सौ साल पुराना पुल, मलबे में दबकर पांच घायल

3.2182012 २५ मार्च २०१७ ०४:५१:२९ Jagran Hindi News - bihar:muzaffarpur

बिहार के सीतामढ़ी में स्‍टेट हाई-वे 104 पर बना सौ साल पुराना एक पुल धंस गया। इसके बाद अफरा-तफरी मच गई। मलबे में पांच मजदूर दब गए थे, जिन्‍हें निकाल लिया गया।

Vice सभी समाचार Time२५ मार्च २०१७ ०४:५१:२९


बिहार में हाई-वे पर धंसा सौ साल पुराना पुल, मलबे में दबे 10 लोग

2.5742748 २४ मार्च २०१७ १८:०३:३८ Jagran Hindi News - bihar:patna-city

बिहार के सीतामढ़ी में स्‍टेट हाई-वे 104 पर बना सौ साल पुराना एक पुल धंस गया। इसके बाद अफरा-तफरी मच गई। मलबे में 10 मजदूर अभी भी दबे हुए हैं।

Vice सभी समाचार Time२४ मार्च २०१७ १८:०३:३८


घंटों यूं मलबे के नीचे दबा रहा युवक, तोड़ रहा था 70 साल पुराना घर

2.4264565 १० नवंबर २०१६ ०७:२०:३४ bhaskar

रांची। यहां रातू रोड में दो मजदूर और जमीन मालिक 70 साल पुराने घर की ईंट निकालने के क्रम में मिट्टी धंसने से 10 फीट सकरी नींव में बुरी तरह दब गए। यह हादसा बुधवार को हुआ। एक युवक का आधा से ज्यादा शरीर मिट्टी में दब गया। मकान मालिक उससे थोड़ा ऊपर दबे हुए थे। एक और मजदूर जो ज्यादा नीचे नहीं था, बाहर आ गया। हादसे के बाद क्या हुआ...? -जब नींव की मिट्टी धंसी, तब घर में मकान मालिक उमेश की पत्नी सुशीला देवी मौजूद थीं। उनके दोनों बच्चे सुजाता और राम स्कूल गए हुए थे। -पति और एक मजदूर को सकरी नींव में दबा देख सुशीला दौड़ी-दौड़ी पड़ोसी राजन सिंह के पास गई और मदद की गुहार लगाई। -राजन ने स्थानीय लोगों की मदद से उन्हें निकालने का काफी प्रयास किया। जब घंटे भर में सफलता नहीं मिली, तब उन्होंने सुखदेव नगर पुलिस को इसकी सूचना दी गई। सूचना पाकर सुखदेव नगर पुलिस भी गई। घंटों मलबे में दबे रहने से मनोज की तबीयत बिगड़ी -सुखदेव नगर के थाना प्रभारी नवल किशोर सिंह ने नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) को इसकी सूचना दी। - दोपहर 1.30 बजे एनडीआरएफ की टीम पहुंची और राहत कार्य...

Vice null Time१० नवंबर २०१६ ०७:२०:३४


जब घड़ियाल दो साल के मासूम को जबड़े में दबाकर ले गया

2.4264565 १६ जून २०१६ १४:१३:१६ Live Hindustan Rss feed

अमेरिकी शहर ऑरलैंडो में एक डिज्नी वर्ल्ड रिजॉर्ट के करीब घडि़याल का शिकार बने दो साल के बच्चे का शव खोजकर्ताओं को मिल गया है।

Vice सभी समाचार Time१६ जून २०१६ १४:१३:१६


राजधानी में तीन साल के मासूम की गला दबाकर हत्या

2.1452289 १२ मई २०१६ २१:३०:०२ Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

देहरादून के जोगीवाला क्षेत्र में तीन साल के बालक की गला दबाकर हत्या से सनसनी फैल गई।

Vice null Time१२ मई २०१६ २१:३०:०२


निर्माणाधीन मकान ढहा, मलबे में दबकर दो मासूम भाइयों की मौत

1.8745797 ३० मार्च २०१६ ०८:५२:४० bhaskar

रायपुर. राजधानी के उरला थाना क्षेत्र स्थित सरोरा गांव में बुधवार सुबह एक निर्माणाधीन मकान ढह जाने से मलबे में दबकर दो बच्चों की मौत हो गई। दोनों सगे भाई छत पर खेलने गए थे और हादसे का शिकार हो गए। ऐसे हुआ हादसा... - सरोरा में चाय-नाश्ते की दुकान चलाने वाले किशोर साहू परिवार के साथ के ऊपर फर्स्ट फ्लोर में रहते हैं। - उसके ऊपर तीसरे फ्लोर के निर्माण कार्य शुरू हुआ था और उसकी ढलाई के लिए सेट्रिंग हो चुकी थी। - बुधवार को उनके दोनों बच्चे नितिन (8) और आशु (12) सुबह उठकर छत पर खेलने चले गए। - थोड़ी देर में छत से ढहने की आवाज आई। परिजन पहुंचे तो ढही हुई दीवार और कंस्ट्रक्शन मटेरियल में दोनों बच्चे दबे हुए मिले। - बच्चों को निकालकर तत्काल स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। पुलिस को देर से मिली सूचना - घटनास्थल भीड़भाड़ वाले इलाके में है। हादसे के बाद वहां सैकड़ों लोग जमा हो गए। - पुलिस को घटना की सूचना तब मिली जब बच्चे अस्पताल में थे। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। सूना हुआ घर - किशोर साहू के दो ही बच्चे थे। एक साथ दोनों...

Vice null Time३० मार्च २०१६ ०८:५२:४०


ताइवान भूकंप: 60 घंटे बाद मलबे से जिंदा निकली आठ साल की मासूम

1.8745797 ०८ फ़रवरी २०१६ १३:१४:४२ bhaskar

ताइपे. ताइवान में भूकंप से ध्वस्त हुई 17 मंजिला इमारत के मलबे से 60 घंटे बाद सोमवार आठ साल की बच्ची को जिंदा बाहर निकाला गया। भूकंप में मृतकों की संख्या बढ़कर 38 हो गई है। वहीं 117 लोगों के अभी भी मलबे में दबे होने की आशंका है। सबसे पुराने शहर टेनान में ज्यादा नुकसान... - लिन सू-चिन कॉन्सस थी, जब मलबे से बाहर निकाला गया। उसे फौरन पास के हॉस्पिटल ले जाया गया। - रिपोर्ट के मुताबिक, लिन के तुरंत बाद उसकी आंटी शेन मेई-जिह को भी रेस्क्यू किया गया। - इसके पहले रविवार को 24 घंटे बाद 20 साल के हुआंग कुआंग वेई को मलबे से जिंदा निकाला गया था। कहां था भूकंप का केंद्र? - भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.4 थी। इसका केंद्र टेनान से 48 किलोमीटर दूर ईस्टर्न-साउथ ईस्ट में 16.7 किमी. गहराई में था। - भूकंप में ताइवान के सबसे पुराने शहर टेनान की आठ इमारतें जमींदोज हो गई। वहीं अन्य पांच क्षतिग्रस्त हो गई थी। - इस शहर की आबादी 1.9 करोड़ है। भूकंप के बाद 1.20 लाख घरों की बिजली गुल हो गई। - इसमें 450 से अधिक लोग घायल हुए हैं। वहीं, 356 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। - वहीं, ताइवान के...

Vice null Time०८ फ़रवरी २०१६ १३:१४:४२


इधर, बिजली से दीवार ढही, मासूम मलबे में दबा

1.8745797 २२ जून २०१५ २३:३९:२१ bhaskar

4 जगह आकाशीय बिजली गिरी घर में सो रहे युवक की मौत घाटोल (बांसवाड़ा)| खमेराथाना क्षेत्र केे पाड़ीखेड़ा गांव में रविवार रात को एक मकान पर आकाशीय बिजली गिरने से घर में सोया एक मासूम मलबे में दबकर घायल हो गया। बिजली गिरने से मकान की दीवार ढह गई। गनीमत रही कि इस घटना में परिवार के बाकी सदस्य सुरक्षित रहे। जानकारी के अनुसार भगोरों का खेड़ा पंचायत के पाड़ीखेड़ा गांव में रविवार रात 1 बजे तेज गड़गड़ाहट धमाके की आवाज के साथ घर की दाईं ओर की दीवार पर बिजली गिर पड़ी। धमाके की आवाज सुनकर पूंजीलाल घर से बाहर आया। तभी दीवार भर-भराकर गिर गई। इसी दौरान दीवार के पास खाट पर सोया नारायण (8) पुत्र पूंजीलाल मलबे में दबकर घायल हो गया। परिजनों की चीख पुकार सुनकर पड़ोसी मौके पर पहुंचे। शेष| पेज 8 मलबेमें दबे मासूम को बाहर निकाला। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे सरपंच चेतनपुरी ने पीपलखूंट से 108 एंबुलेंस मंगवाई और घायल बच्चे को घाटोल अस्पताल ले गए, जहां प्राथमिक इलाज के बाद प्रतापगढ़ भेज दिया। वहां अस्पताल में उसका इलाज जारी है। मलबे में दबे नारायण के सिर, पैर और कमर में चोटें आई है। बांसवाड़ा के...

Vice null Time२२ जून २०१५ २३:३९:२१


PHOTOS: मलबे में घंटों दबी रही 80 साल की महिला को जिंदा निकाला गया

1.7988664 २२ फ़रवरी २०१५ ०९:२६:१९ bhaskar

अलेप्पो। सीरिया में मलबे में दबी इस 80 साल की महिला को जिंदा बाहर निकाला गया है। असद सरकार समर्थित सेना ने अलेप्पो शहर में शनिवार को कई हवाई हमले किए गए। इसके चलते कई मकान धराशाई हो गए। महिला इसी मलबे में दब गई और कई घंटों तक फंसी रही। राहत और बचाव कार्य में जुटे सीरिया के सिविल डिफेन्स वर्कर्स की नजर मलबे के नीचे दबी इस महिला पर पड़ी और किसी तरह उसे बाहर निकाला गया। हालांकि, असद सरकार ने ऐसे किसी भी हमले की बात से इनकार किया है और इसे विद्रोहियों का काम बताया है। सेना सूत्रों ने जानकारी देते हुए कहा, &&सीरियाई सेना की ओर से ऐसी किसी भी घटना को अंजाम नहीं दिया गया है। सेना का काम लोगों की सुरक्षा करना है, न कि लोगों की हत्या करना।&& सेना की ओर से ये भी कहा गया कि विद्रोही उन लोगों को मौत के घाट उतार रहे हैं, जिन पर उन्हें सरकार और सेना के लिए काम करने का संदेह हो रहा है। अलेप्पो शहर में असद सेना और विद्रोहियों के बीच लगातार संघर्ष जारी है। सीरियन ऑब्जर्वेट्री फॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक, अलेप्पो में पिछले बीते मंगलवार से असद सेना और...

Vice null Time२२ फ़रवरी २०१५ ०९:२६:१९


मकान की छत से मलबा गिरा, 3 साल की मासूम जख्मी

1.7988664 १४ फ़रवरी २०१५ ००:४६:३२ bhaskar

अमृतसर। नगर निगम की वार्ड नंबर 62 के अधीन आते इलाका गुरु की वडाली के हर गोबिंद नगर में पिछले तीन सालों से खड़े सीवरेज के पानी के कारण सीलन आने के कारण शुक्रवार बाद दोपहर 12 बजे गुरनाम सिंह के मकान की छत का मलबा गिर गया, जिससे उनकी तीन साल की पोती मुस्कान जख्मी हो गई। उसको पास के प्राइवेट अस्पताल में दाखिल करवाया गया। मुस्कान की दादी गुरमीत कौर ने बताया कि उन्होंने 5 साल पहले अपना मकान बनाया था, जबकि इलाके का सीवरेज पिछले तीन सालों से जाम होने के कारण उनके घर के बाहर नालियों में गंदा पानी खड़ा रहता है। इस कारण मकान में सीलन आ गई है। सीवरेज जाम खुलवाने के लिए कई बार इलाका पार्षद और निगम कर्मचारियों को कहा गया है, मगर कोई सुनने को तैयार नहीं है। शुक्रवार बाद दोपहर उनके पारिवारिक सदस्य घर के बाहर थे और मुस्कान कमरे के बैड पर बैठकर पढ़ रही थी। इसी बीच अचानक छत का मलबा उस पर गिर गया। इस बारे में इलाके के पार्षद ओम प्रकाश गब्बर के मोबाइल नंबर 98785-08791 पर कई बार फोन किया पर उन्हें फोन नहीं उठाया। आगे की स्लाइड में देखें खबर से जुड़ी फोटो

Vice null Time१४ फ़रवरी २०१५ ००:४६:३२