बेटे को चोदने को मजबूर किया

Press Report

समाचार स्रोतों की सूची लगातार अद्यतन

Share on Facebook Share on Twitter Share on Google+

Ads

शादी के नाम पर तस्करी, यहां स्कूल छोड़ने को मजबूर हो रहीं बेटियां

२८ नवंबर २०१६ ०५:१८:१३ Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

शादी के नाम पर बेटियों की तस्करी से जुड़ा एक और चौंकाने वाला सच सामने आया है। इस गोरखधंधे के चलते 8वीं से पहले ही लड़कियां स्कूल छोड़ने को मजबूर हो रही हैं।

Vice null Time२८ नवंबर २०१६ ०५:१८:१३


Ads

आत्महत्या के लिए मजबूर करने के मामले में आरोपी मां-बेटी गिरफ्तार

२२ नवंबर २०१६ २२:२३:५८ bhaskar

सुसाइडनोट लिखकर आत्महत्या करने वाले पटवारी को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के मामले में पुलिस ने आरोपी मां-बेटी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी मां-बेटी को न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया। रानियां थाना प्रभारी इंस्पेक्टर जगदीश जोशी ने बताया कि पटवारी सुरेंद्र कुमार के पिता सुरजीत सिंह की शिकायत पर खारियां निवासी सोनू उर्फ सोनिया उसकी मां सीमा सहित कई अन्य लोगों के खिलाफ रानियां थाना में 15 नवंबर को केस दर्ज किया गया था। उन्होंने बताया कि मामले की जांच के दौरान जो भी इस मामले में संलिप्त पाए जाएंगे, उनके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। मां-बेटी को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में सिरसा जेल भेजा गया है। पड़ोस में रहने वाली लड़की ने लगाए थे आरोप गांवखारियां निवासी रानियां में नवनियुक्त पटवारी शैलेंद्र पुत्र सुरजीत सिंह ने 14 नवंबर की रात को तीन बजे रानियां के पटवार खाने में सल्फास खाकर जान दे दी। उस पर दो दिन पहले पड़ोसन लड़की ने घर में घुसकर छेड़खानी करने का केस दर्ज करवाया था। इसी बात से...

Vice null Time२२ नवंबर २०१६ २२:२३:५८


गर्भवती बेटी को साइकिल से हॉस्पिटल लाने को मजबूर हुआ पिता

३० अगस्त २०१६ ०९:२४:४१ Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में एंबुलेंस ने मिलने पर एक शख्स को अपनी गर्भवती बेटी के प्रसव पीड़ा में अस्पताल ले जाना पड़ा।

Vice सभी समाचार Time३० अगस्त २०१६ ०९:२४:४१


मायके आई बेटी को पिता ने किया खुदकुशी को मजबूर, गिरफ्तार

१७ अगस्त २०१६ ११:२७:०२ Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

मायके आई बेटी को सौतेली मां ने ताने मारने शुरू किए। पिता भी उसे प्रताड़ित करते हुए घर से खदेड़ने लगा। इससे आहत बेटी ने फांसी लगाकर जान दे दी।

Vice null Time१७ अगस्त २०१६ ११:२७:०२


बेटी को बांधने पर मजबूर है ये पिता

२६ मार्च २०१६ ०७:४५:०२ Jagran Hindi News - news:oddnews

बच्चे उन आजाद पंछियों की तरह होते हैं जिन्हें ना आज का गम है ना कल की फिकर। ऐसी उम्र में उनका मन बहुत ही चंचल होता है, वह किसी भी कायदे कानूनों में बंधे रहना पसंद नहीं करते लेकिन 12 साल की यांग को ऐसी कौन सी बीमारी है

Vice सभी समाचार Time२६ मार्च २०१६ ०७:४५:०२


विवाहित बेटी का पता लगाने के लिए भटक रहा है मजबूर पिता

१९ जनवरी २०१६ २१:५०:४४ bhaskar

सिटी रिपोर्टर | फुलवारीशरीफ 19दिनों से एक मजबूर बेबस अशिक्षित लाचार पिता यह जानने के लिए थाने से लेकर सिटी एसपी पूर्वी के दरवाजे-दरवाजे भटक रहा है कि उसकी शादीशुदा लापता बेटी का मामला दर्ज हुआ है या नहीं। बेटी के लापता होने का मामला दर्ज कराने एक जनवरी को गोपालपुर थाना पहुंचे पिता नरेश जमादार को तीन दिन तक थाने पुलिस ने टरकाया फिर यह कहकर भगा दिया कि एसपी के यहां जाओ। सिटी एसपी पूर्वी के पास मजबूर पिता ने अपनी बेटी के लापता होने का लिखित शिकायत दी। करीब 15 दिन बाद भी उसके पिता नरेश जमादार को यह नहीं पता है कि उनका मामला कहीं दर्ज किया गया है या नहीं। मामला संपतचक के गोपालपुर थाना क्षेत्र के कामताचक से जुड़ा है। नालंदा के छबीलापुर थाना क्षेत्र के गोरौल, राजगीर निवासी नरेश जमादार की छोटी बेटी पिंकी की शादी करीब डेढ़ साल पहले राजगीर स्थित कुंड के पास मंदिर में पटना के संपतचक के कामताचक गांव निवासी विजय जमादार के पुत्र वीरू के साथ हुई थी। नरेश जमादार ने उसकी बेटी अचानक गायब हो गई।

Vice null Time१९ जनवरी २०१६ २१:५०:४४


इंसाफ के लिए भटक रहा मजबूर परिवार

१४ अक्‍तूबर २०१५ ०२:१८:१३ bhaskar

संगरूर|किशनपुरा बस्तीनिवासी दलित परिवार इंसाफ की मांग के लिए दर-दर की ठोकरें खाने के लिए मजबूर है। आरोप है कि पुलिस ने बेटों पर हमला करने वाले आरोपियों को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया है। बड़े बेटे पर 16 सितंबर को छोटे बेटे पर 10 अक्टूबर को हमला हुआ था लेकिन अभी तक आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। परिवार ने चेतावनी दी है कि यदि इंसाफ मिला तो आत्महत्या करने के लिए मजबूर होंगे।किशनपुरा बस्ती निवासी अवतार सिंह प|ी जसवीर कौर ने बताया कि 16 सितंबर की रात गुरप्रीत सिंह पर जानलेवा हमला करके बुरी तरह से घायल कर दिया गया। ...विस्तृतपेज 4 पर

Vice null Time१४ अक्‍तूबर २०१५ ०२:१८:१३


पिता के नाम पर बनी फिल्म, बेटा बकरी चराने को है मजबूर

२० अगस्त २०१५ १२:०६:१८ bhaskar

पटना. बिहार के गया जिले के गहलौर घाटी के पहाड़ को 22 साल तक काटकर रास्ता बनाने वाले दशरथ मांझी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक दिन के लिए CM बना दिया था और अपनी कुर्सी पर बैठाया था। दशरथ मांझी के पहाड़ काटकर रास्ता बनाने के कारनामे पर बनी फिल्म &मांझी द माउंटेन मैन& जल्द ही रिलीज होने वाली है। जहां पिता के कारनामे पर फिल्म बन गई वहीं, उनके बेटे भागीरथ मांझी आज भी बकरी चराने को मजबूर हैं। उनका परिवार झोपड़ी में रहता है और पैसे के लिए मुर्गी और बकरी पालता है। पूर्व सीएम जीतन मांझी ने कहा था- झोपड़ी में ही खुश रहो पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी CM बनने के दो दिन बाद ही गहलौर घाटी गए थे। दशरथ मांझी की समाधि पर नमन करने के बाद वह दशरथ के घर भी गए थे। दशरथ के बेटे भागीरथ मांझी ने कहा था कि साहब झोपड़ी में रहते हैं आप जैसे घरों में रहते हैं उसी तरह का घर बना दिजिए। तब मांझी ने मजाक में कहा था कि झोपड़ी में ही खुश रहो। कोई खराब थोड़े ही है झोपड़ी में रहना। दशरथ मांझी के परिजनों को आज तक इंदिरा आवास का लाभ नहीं मिला। सरकार के वादों को सिर्फ याद करके संतोष करते हैं कि...

Vice null Time२० अगस्त २०१५ १२:०६:१८


बेटे को किया मरने को मजबूर, नहीं हुई गिरफ्तारी

०९ अगस्त २०१५ १६:१६:४० Jagran Hindi News - punjab:ludhiana

जागरण न्यूज नेटवर्क, श्री माछीवाड़ा साहिब स्थानीय प्रेम नगर निवासी आशा रानी ने पुलिस के उच्च अधिकार

Vice सभी समाचार Time०९ अगस्त २०१५ १६:१६:४०


पिता ने नाम पर बनी फिल्म, बेटा बकरी चराने को है मजबूर

२७ जुलाई २०१५ १४:०८:१८ bhaskar

पटना. बिहार के गया जिले के गहलौर घाटी के पहाड़ को 22 साल तक काटकर रास्ता बनाने वाले दशरथ मांझी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक दिन के लिए CM बना दिया था और अपनी कुर्सी पर बैठाया था। दशरथ मांझी के इसी कारनामे पर बनी फिल्म &मांझी द माउंटेन मैन& जल्द ही रिलीज होने वाली है। जहां पिता के कारनामे पर फिल्म बन गई वहीं, उनके बेटे भागीरथ मांझी आज भी बकरी चराने को मजबूर हैं। उनका परिवार झोपड़ी में रहता है और पैसे के लिए मुर्गी और बकरी पालता है। पूर्व सीएम जीतन मांझी ने कहा था- झोपड़ी में ही खुश रहो पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी CM बनने के दो दिन बाद ही गहलौर घाटी गए थे। दशरथ मांझी की समाधि पर नमन करने के बाद वह दशरथ के घर भी गए थे। दशरथ के बेटे भागीरथ मांझी ने कहा था कि साहब झोपड़ी में रहते हैं आप जैसे घरों में रहते हैं उसी तरह का घर बना दिजिए। तब मांझी ने मजाक में कहा था कि झोपड़ी में ही खुश रहो। कोई खराब थोड़े ही है झोपड़ी में रहना। दशरथ मांझी के परिजनों को आज तक इंदिरा आवास का लाभ नहीं मिला। सरकार के वादों को सिर्फ याद करके संतोष करते हैं कि एक दिन मेरा भी घर बन...

Vice null Time२७ जुलाई २०१५ १४:०८:१८